देश की मिटटी से जुडे लोगों का मंच.-- नई तकनीक स्वीकारने के साथ ही विश्व को भारत की वो सौगात /उन महान मूल्यों की रक्षा, हर हाल करना, व्यापक मानवीय आधार है द्वार खुले रखने का अर्थ अँधानुकरण/प्रदुषण स्वीकारने की बाध्यता नहीं(निस्संकोच ब्लॉग पर टिप्पणी/अनुसरण/निशुल्क सदस्यता व yugdarpan पर इमेल/चैट करेंसंपर्क सूत्र -तिलक संपादक युगदर्पण 09911111611, 09999777358

YDMS चर्चा समूह

आ.सूचना,

: :आ.सूचना,: सभी कानूनी विवादों के लिये क्षेत्राधिकार Delhi होगा। हमारे ब्लाग पर प्रकाशित सभी सामग्री के विषय में किसी भी कार्यवाही हेतु संचालक/संपादक का सीधा उत्तरदायित्त्व नही है अपितु लेखक उत्तरदायी है। आलेख की विषयवस्तु से संचालक/संपादक की सहमति/सम्मति अनिवार्य नहीं है। अनैतिक,अश्लील, असामाजिक,राष्ट्रविरोधी, धर्म/सम्प्रदाय विरोधी, मिथ्या, तथा असंवैधानिक कोई भी सामग्री यदि प्रकाशित हो जाती है। यदि कोई भी पाठक कोई भी आपत्तिजनक सामग्री पाते हैं व तत्काल संचालक/संपादक मंडल को सूचित करें तो वह तुंरत प्रभाव से हटा दी जाएगी एवम लेखक सदस्यता भी समाप्त करदी जाएगी।: : "भारतचौपाल" पर आपका हार्दिक स्वागत है.इस ब्लॉग पर अपनी प्रकाशित और अप्रकाशित रचनाये भेज सकते हैं,रचनाएँ स्वरचित है इसका सत्यापन कर ई-मेल yugdarpanh@gmail.com पर भेजें ,ये तो आपका ही साझा मंच है.धन्यवाद: :

बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Saturday, January 16, 2016

सैन्यकर्मी जाल में न फंसें, इसलिए सतर्कता: पर्रिकर

सैन्यकर्मी जाल में न फंसें, इसलिए सतर्कता: पर्रिकर 
तिलक  
16 जन 16  
भारतीय वायुसेना के एक अधिकारी को जाल में फंसाए जाने के मामले की पृष्ठभूमि में रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने आज कहा कि इस प्रकार के मामलों को रोकने के लिए सभी प्रकार की सावधानियां बरती जा रही हैं और ये मामले अभी निचले स्तर तक ही सीमित हैं। पर्रिकर ने जयपुर में संवाददाताओं से कहा, ''मुझे नहीं लगता कि ऐसी चीजें (जासूसी) उच्च स्तर पर होती हैं। कुछ चीजें सामने आई हैं, किन्तु वे निचले स्तर पर हैं और हमने उन्हें रोकने के लिए सभी सावधानियां बरती हैं।’’ 
उन्होंने कहा, ‘‘जब हम सतर्क होते हैं तो लोभ देकर जाल में फंसने जैसी चीजें सामान्यत: नहीं हो पाती। हमें सदा सतर्क रहना चाहिए। हम भर्ती और प्रशिक्षण के समय इसका ध्यान रखते हैं। जवानों के सोशल नेटवर्किंग साइटों का उपयोग करने को लेकर स्पष्ट दिशा निर्देश एवं आचार संहिता है।’’ हाल में भारतीय वायुसेना के 30 वर्षीय एक अधिकारी रंजीत के.के. को, एक संदिग्ध जासूस को आधिकारिक सूचनाएं कथित रूप से देने के मामले में बंदी बना और सेवा से निलम्बित किया गया है। दिल्ली पुलिस अपराध शाखा के अनुसार अधिकारी ने फेसबुक पर स्वयं को पत्रकार बताने वाली संदिग्ध जासूस दामिनी मैक्नॉट के बिछाए मधुपाश में फंस कर यह जानकारी साझा की। 
पर्रिकर ने सेना की भर्ती रैली के उद्घाटन के अवसर पर अंबेर के निकट के.औ.सु. बल (सीआईएसएफ) मैदान में वहां रैली को हरी झंडी देने से पूर्व प्रत्याशियों के साथ बातचीत के समय कही। बड़ी संख्या में प्रत्याशियों ने इस खुली रैली में भाग लिया, जिसके लिए 'ऑनलाइन' पंजीकरण किए गए थे। उन्होंने कहा, ''हमने भर्ती रैली के लिए 'ऑनलाइन' आवेदन की प्रक्रिया शुरू की। इस बात की आशंका थी कि प्रत्याशियों की संख्या गिर सकती है, किन्तु इसके विपरीत यह संख्या बढ गई है।’’ पर्रिकर ने कहा, ''भारतीय युवा देशभक्त हैं और वह राष्ट्रवादी सोच रखते हैं और इसीलिए वह सेना में भर्ती होना चाहते हैं।’’ इस अवसर पर केंद्रीय राज्य सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर और सेना के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।
http://yugdarpan.blogspot.in/2016/01/blog-post_16.html
http://deshkimitti.blogspot.in/2016/01/blog-post_16.html
देश की मिटटी की सुगंध, भारतचौपाल |-तिलक संपादक
Post a Comment